Rooh ki Talash main

रूह की तलाश में, 

रूह की तलाश में , भटक रहा हूँ दर बदर !!!     

कहते हैं लोग कि है वो कहीं मेरे ही अंदर ,
फिर भी न जाने क्यों ,मैं उससे मिल पाता नहीं !
कहनी हैं हज़ार बातें ,क्यों मैं उससे कह पाता नहीं !!!!

अंश है मेरा ही वो, 

अंश है मेरा ही वो , फिर क्यों सामने वो आती नहीं ?
साथ है मेरे ही वो , क्यों ये भरोसा  दिलाती नहीं?

किस बात का है डर उसे, जो भागती है यूँ हर पल?
एक बार ही सही मिलाले मुझसे वो नज़र !!!! 

रूह की तलाश में  भटक रहा हूँ दर बदर,
कोई मिला दे उससे मुझे 
अब हो रहा हूँ मैं बेसबर !
रूह की तलाश में भटक रहा हूँ दर बदर !!!!!
 --------------


Rooh Ki talash main 
Rooh Ki talash main, bhatak raha hoon dar badar

kehte hain log ki hai wo kahin mere hi andar
phir b naa jaane kyun, main usse mil paata nahi?
kehni hain jo hazar baaten, main usse keh paata nahi

Ansh hai mera hi wo 
Ansh hai mera hi wo, phir kyun samne wo ati nahi?
Saath hai mere hi wo, ye bharosa kyu dilati nahi?

kis baat ka darr hai use, jo bhaagti hai un har pal
kis baat ka darr hai use, jo bhaagti hai un har pal,
Ek baar hi sahi milale mujhse wo Nazar

Rooh ki talash main bhatak raha hoon dar badar
koi mila de mujhse usse 
ab ho raha hoon main besabar
Rooh ki talash main bhatak raha hoon darbadar!
  


Comments

  1. ruk 2 pal ko sahil pe sukoon se
    ye rooh bhi muntazar hai tujhse guftgu ke liye!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Travelling makes strangers turn in to lifelong friends!!!!!!!!!!!!!

Most challenging trek in India: The Ice Walk trek also called as the THE CHADAR TREK

Chadar Part 2 - This is how we survived Chadar